WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

7 Sisters कौनसे राज्य मिलकर बनाते है? जाने इसके पीछे की पूरी कहानी

0
7 Sisters कौनसे राज्य मिलकर बनाते है? जाने इसके पीछे की पूरी कहानी

7 Sisters: भारत की बात करें तो इस समय 28 राज्य और 8 केंद्र शासित प्रदेश हैं। उत्तर पूर्व में भारत को पूर्वोत्तर के नाम से जाना जाता है। इस क्षेत्र में भारत के 7 राज्य आते हैं जिन्हें हम सेवन सिस्टर अर्थात सात बहनों के नाम से भी जानते हैं। आज हम आपको बताएंगे कि इन 7 राज्यों को सेवन सिस्टर क्यों कहा जाता है और इसके पीछे क्या रोचक जानकारी है।

7 Sisters कौनसे राज्य मिलकर बनाते है? जाने इसके पीछे की पूरी कहानी

प्रतियोगी परीक्षाओं में भी इस प्रकार के सवाल पूछे जाते हैं। कंपटीशन एग्जाम की दृष्टि से भी यह जानकारी आपके लिए बहुत ही लाभदायक सिद्ध होने वाली है। आइए जानते हैं इसके बारे में।

7 Sisters में कौन-कौन से राज्य आते हैं

पूर्वोत्तर के अंदर 7 राज्य जो मिलकर सेवन सिस्टर बनाते हैं उनके नाम है अरुणाचल प्रदेश, असम, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड और त्रिपुरा। यह सभी राज्य मिलकर सेवन सिस्टर्स का निर्माण करते हैं।

इन 7 राज्यों को सेवेन सिस्टर्स क्यों कहा जाता है

भारत की आजादी के बाद इस क्षेत्र में मणिपुर, त्रिपुरा और असम राज्य थे। आजादी के बाद इस क्षेत्र का और विस्तार हुआ और चार राज्य जिनका नाम अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, मिजोरम और नगालैंड है इस एरिया में सम्मिलित किए गए। यह सभी राज्य एक दूसरे पर निर्भर है। इन राज्यों की राजनीतिक सामाजिक और आर्थिक स्थिति भी लगभग एक समान ही है। इस वजह से इन सातों राज्यों को सेवेन सिस्टर्स का नाम दे दिया गया।

सिक्किम राज्य सबसे अलग

अगर आप ज्योग्राफी की स्थिति के अनुसार देखें तो पूर्वोत्तर में कुल 8 राज्य हैं। सेवन सिस्टर्स के अलावा एक आठवां राज्य है जिसका नाम सिक्किम है। सेवन सिस्टर के अंदर सिक्किम को इसलिए शामिल नहीं किया गया क्योंकि जिस समय 7sisters का गठन हुआ उस समय सिक्किम भारत का हिस्सा नहीं था। इसे बाद में भारत में शामिल किया गया था।

किसने दिया सेवन सिस्टर का नाम

सभी राज्य सामाजिक और आर्थिक रूप से एक दूसरे पर निर्भर है और सभी एक समान है। इसलिए ज्योति प्रसाद साईंकिया जो असम के एक सिविल सेवक है उन्होंने इसे सात बहनों की भूमि अर्थात सेवन सिस्टर्स का नाम दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *